Maa Sharde Kaha Tu Lyrics – Saraswati Mata Bhojpuri Bhajan

Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hai Lyrics: Goddess Saraswati whom we regard as the Goddess of Knowledge, Arts, Wisdom and Learning was first mentioned in the Rig Vedas. Maa Saraswati is worshipped on the day of Vasant Panchami in order to show their devotion and faithfulness towards her. There are various prayers and hymns dedicated to her. In the same way, Jai Maa Sharde by Anu Dubey is one of the Saraswati Mata superhit Bhajans of the year 2018. May Saraswati Mata bless all of us, remove all the negativity from our minds and help us make ourselves clean, pure and dedicated towards our work.

Jai Maa Sharde Credits Details

  • Bhajan Name: Jai Maa Sharde
  • Singer: Anu Dubey
  • Album: Jai Maa Sharde
  • Bhajan Writer: R.R Pankaj
  • Music Director: Max Studio
  • Music Label: Wave

Saraswati Mata Bhajan Maa Sharde Kaha Tu Lyrics

Anu Dubey has sentimentally sung this Bhajan evoking the tender emotions and feelings in us. This bhajan is also available on online music streaming services such as iTunes, Wynk Music, Gaana and Hungama.  This bhajan can really bring peace to your soul.

Maa Sharde Kaha Tu mp3 Song – Download Here

Song Lyrics

माँ शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं।

श्लोक – सरस्वती नमस्तुभ्यं,

वरदे कामरूपिणी,

विद्यारम्भं करिष्यामि,

सिद्धिर्भवतु मे सदा।

माँ शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,

किस मंजू ज्ञान से तू,

जग को लुभा रही हैं।।

किस भाव में भवानी,

तू मग्न हो रही है,

विनती नहीं हमारी,

क्यों माँ तू सुन रही है,

हम दीन बाल कब से,

विनती सुना रहें हैं,

चरणों में तेरे माता,

हम सर झुका रहे हैं,

हम सर झुका रहे हैं,

मां शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,

किस मंजू ज्ञान से तू,

जग को लुभा रही हैं।।

अज्ञान तुम हमारा,

माँ शीघ्र दूर कर दो,

द्रुत ज्ञान शुभ्र हम में,

माँ शारदे तू भर दे,

बालक सभी जगत के,

सूत मात हैं तुम्हारे,

प्राणों से प्रिय है हम,

तेरे पुत्र सब दुलारे,

तेरे पुत्र सब दुलारे,

मां शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,

किस मंजू ज्ञान से तू,

जग को लुभा रही हैं।।

हमको दयामयी तू,

ले गोद में पढ़ाओ,

अमृत जगत का हमको,

माँ शारदे पिलाओ,

मातेश्वरी तू सुन ले,

सुंदर विनय हमारी,

करके दया तू हर ले,

बाधा जगत की सारी,

बाधा जगत की सारी,

मां शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,

किस मंजू ज्ञान से तू,

जग को लुभा रही हैं।।

माँ शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,

किस मंजू ज्ञान से तू,

जग को लुभा रही हैं।।

Here comes the end of Maa Sharde Kaha Tu Lyrics. If you think that we have missed out some lines of this bhajan.  Let us know by writing to us via contact form

Narishan

Nature Lover! Knowledge Seeker!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *